आई.एस.आई.एस ने की भारतीय पादरी फादर टॉम उजहन्नालिल की हत्या

फादर
deccanchroniclecom

आई .एस .आई .एस ने दक्षिण यमन के एक वृद्धाश्रम से चार मार्च को अगवा भारतीय पादरी फादर टॉम उजहन्नालिल की हत्या कर दी है । ब्रिटेन के एक अखबार “डेली मेल” के हवाले से यह जानकारी दी गयी है । डेली मेल के अनुसार 25 मार्च को गुड फ्राइडे के दिन ही ऐसी खबरें आयी थीं, कि फादर टॉम को आई .एस .आई .एस सूली पर लटका सकता है । लेकिन तीन दिनों तक इसकी पुष्टि नहीं हो पायी थीं ।  यह आशंका धार्मिक संगठनों के बातचीत के आधार पर जतायी गई थी । साथ ही सोशल मीडिया पर भी एक पोस्ट वायरल हो रहा था । जिसके अनुसार आशंका जतायी जा रही थी, कि आतंकी संगठन आईएस भारतीय पादरी को फांसी दे सकता है।

टॉम यमन में मदर टेरेसा मिशनरीज के चैरिटी के लिए काम करते थे, उजुन्नालिल यमन में उस समय लापता हो गए थे। जब 4 मार्च को इस्लामी स्टेट आतंकी समूह ने मदर टेरेसा की मिशनरीज आफ चेरिटी द्वारा चलाई जा रही एक धर्मार्थ संस्था पर हमला किया  था ।

26  मार्च को भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्विट कर बताया, ‘‘केरल के रहने वाले भारतीय नागरिक फादर टॉम उजुन्नालिल को यमन में एक आतंकी समूह ने अगवा कर लिया है, हम उनकी रिहाई सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं ।’’  अखबार में छपी खबर के मुताबिक विएना में ईस्टर मास के दौरान कार्डिनल क्रिस्टोफ शानबार्न ने पादरी की मौत की पुष्टि की है.

उन्होंने मीडिया को बताया कि आतंकियों ने उन्हें भयंकर यातनाएं दी और सूली पर चढ़ा दिया । केरल के रहने वाले टाम उजहूनालिल एक कैथोलिक फादर थे । हालांकि,  पादरी के परिवार और भारत सरकार की ओर से फिलहाल इस बारे में कोई जानकारी साझा नहीं की गयी है ।

इनपुट्स खबर (प्रभात खबर और गूगल न्यूज़ से लिए गए है।)