इंडोनेशिया की भारतीय लोगों को मुफ्त वीजा सुविधा

नई दिल्ली : इंडोनेशिया ने भारत से अधिक से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए भारतीयों को मुफ्त वीजा सुविधा उपलब्ध करने का फैसला किया है।

इंडोनेशिया के पर्यटन निदेशक विनसेंसिउस जेमाडू इंडोनेशियाई पर्यटन को बढ़ावा देने और अधिक भारतीयों को  आकर्षित करने के लिए भारत आए थे। उन्होंने कहा कि “इंडोनेशिया और भारत के बीच बहुत अच्छे संबंध है,जिससे अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने में मदद मिलेगी। इंडोनेशिया भी दक्षिण एशियाई पर्यटन और यात्रा एक्सपो (एसएटीटीई) 2016 में भाग ले रहा है।”

जेमाडू का कहना है कि “हर साल दुनिया भर से लगभाग 1 करोड़ पर्यटक इंडोनेशिया घूमने आते है लेकिन भारत से सिर्फ 270000 लोग ही आते है। इंडोनेशिया सबसे जादा सिंगापुर से पर्यटकों को आकर्षित करता है और उस के बाद मलेशिया, ऑस्ट्रेलिया,चाइना,जापान,साउथ कोरिया और आखिर मे भारत, भारत से सबसे कम पर्यटक इंडोनेशिया घूमने जाते है।”

उन्होंने कहा कि “इंडोनेशिया ने इस बात का एहसास करते हुए कि भारत एक बहुत बड़ा बाजार है, इंडोनेशिया सरकर ने भारतीयों को मुफ्त वीजा देने का निर्णय लिया है, हमने इस साल भारत से 350000 भारतीय पर्यटकों को आकर्षित करने का लक्ष्य निर्धारित किया है जो कि हमारे लिए बहुत बड़ी चुनौती है। इंडिया से ज्यादातर लोग बाली(इंडोनेशिया) घूमने जाते है, ऐसा इसलिए भी हो सकता है कि वे इंडोनेशिया मे अन्य स्थानों के बारे मे न जानते हो,हम चाहते है कि भारतीय इंडोनेशिया के बारे में ज्यादा से ज्यादा जाने।”

“इंडोनेशिया का पर्यटन उद्योग अपने देश की जीडीपी मे 9 प्रतिशत का योगदान करता है और अब हमारी योजना है कि पर्यटन उद्योग को बढ़ाना और 2019 के आखिरी तक देश की जीडीपी में पर्यटन से 15% तक का योगदान देना।”

जेमाडू ने कहा कि “इंडोनेशिया मे 60% लोग यहाँ की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को देखने आते है और 35% लोग यहाँ की प्राकृतिक सुन्दरता को देखने आते है और 5% लोग मानव निर्मित गतिविधियों का आनंद उठने आते है।”

जेमाडू ने भारत और इंडोनेशिया के बीच सीधी कनेक्टिविटी की कमी पर चिंता जताते हुए कहा कि “अब तक दोनों देशों के बीच कोई सीधी उड़ान नहीं है।भारत के लोग मलेशिया और सिंगापुर होते हुए इंडोनेशिया पहुँचते है जो कि इंडोनेशिया के पर्यटन उद्योग के लिए अच्छा नही है क्योंकि लोगों का पैसा और समय बर्बाद होता है।”

हालांकि उन्होंने कहा कि सरकारें दोनों देशों के बीच सीधी उड़ान शुरू करने के लिए सहमत हो गई हैं और इस मुद्दे को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।

उनका कहना है कि “मुझे आशा है कि मुंबई और बाली के बीच सीधी उड़ान मार्च या अप्रैल से शुरू हो जाएगी। गरुदा इंडोनेशियाई एयरलाइन दोनों देशों के बीच उड़ानों को संचालित करने के लिए सहमत हो गयी है।”(आईएएनएस)