जर्मनी में शरणार्थी शिविर से भारतीय महिला को निकाला विदेश मंत्रालय ने

नई दिल्ली : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को कहा कि “एक भारतीय महिला गुरप्रीत को कथित तौर पर उसकी आठ वर्षीय बेटी के साथ ससुराल वालों ने जर्मनी में एक शरणार्थी शिविर में रखा था वो गुरुवार सुबह भारत पहुंच जाएंगे।”

सुषमा स्वराज ने टवीट किया “गुरप्रीत और उसकी बेटी उड़ान एआई 120 से फ्रैंकफर्ट से नई दिल्ली 9:35 पर कल (गुरुवार) सुबह पहुचं जाएंगे।”

विदेश मंत्रालय की ओर से तेजी से कार्रवाई की गयी जब एक वीडियो गुरप्रीत द्वारा मंगलवार को जारी की गयी जिसमें उसने दावा किया कि हरियाणा में फरीदाबाद के रहने वाली है और उसे उसके पति के परिवार द्वारा जर्मनी भेजा गया, जहां वह और उसकी बेटी एक शरणार्थी शिविर में रखा गया है।

उसने हिंदी में वीडियो में कहा “मैं भारत सरकार से अनुरोध करती हूँ मुझे भारत ले जाने के लिए …मेरे साथ क्या हुआ है एक बार मैं भारत पहुंच जाऊ पूरी जानकारी दे दूंगी।”

इसके बाद सुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि “अधिकारी गुरप्रीत के पिता के साथ संपर्क में थे और विदेश मंत्रालय को जर्मनी में भारतीय दूतावास से पूरी रिपोर्ट मिल गई है।”

बुधवार को सुषमा स्वराज ने जर्मनी में भारत के राजदूत गुरजीत सिंह और फ्रैंकफर्ट में महावाणिज्य दूत रवीश कुमार के द्वारा किये गए प्रयासों की भी सराहना की।

सुषमा स्वराज ने बुधवार को टवीट किया “हम गुरप्रीत और उसकी आठ वर्षीय बेटी को शरणार्थी शिविर से फ्रैंकफर्ट में हमारे वाणिज्य दूतावास ले आए है।”(एजेंसीज से इनपुट)