शिकागो में भारत के महावाणिज्यदूत डॉ औसफ सईद ने भारत के आर्थिक बदलाव की सराहना की

शिकागो आईएल : 21 जनवरी को शिकागो विश्वविद्यालय में पोलिटिकल एनकाउंटर सीरीज के उद्घाटन भाषण में भारत के महावाणिज्यदूत डॉ औसफ सईद ने कहा कि “विश्व बैंक द्वारा सबसे तेजी से आर्थिक विकास कर रहे देश के रूप में भारत को स्वीकार किया गया है, भारत की अर्थव्यवस्था चालू वर्ष के दौरान 7.8% की दर से बढ़ेगी जबकि चीन की अर्थव्यवस्था 6.7% की दर से और विश्व की अर्थव्यवस्था 2.9% की दर से बढ़ेगी।यह भारत को एक आर्थिक शक्ति बनाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।”

शिकागो में आयोजित इस कार्यक्रम विभिन्न क्षेत्रों के जाने-माने लोगों की एक बड़ी संख्या में उपस्थित दर्ज की गयी।

डॉ सईद ने कहा कि “प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शरू की गयी योजनाओं जैसे डिजिटल इंडिया,स्वच्छ भारत,मेक इन इंडिया,ग्रीन इंडिया और उनकी 100 स्मार्ट सिटी को विकसित करने को लेकर प्रतिबद्धता, आधारभूत अवसंरचना निर्माण में तेजी से भारत वैश्विक निवेशकों के लिए सबसे उपयुक्त स्थलों में से एक के रूप में उभरा है।”

“भारत ने आने वाले 10 वर्षों में देश की ऊर्जा जरूरत की पूर्ति के लिए 100 गीगावाट सौर उर्जा सहित 175 गीगावाट अक्षय उर्जा का लक्ष्य रखा है।”

डॉ सईद ने कहा कि “दुनिया भर में जनसंख्या बूढ़ा होती जा रही है, वहीं भारत जवान होता जा रहा है और 2020 तक आबादी की औसत आयु के मामले में भारत दुनिया में सबसे युवा देश होगा।”

00 AMU_3814 डॉ सईद ने बताया कि भारतीय वाणिज्य दूतावास के अनुसार अमेरिका के मिडवेस्ट में 500,00 भारतीय-अमेरिकियों द्वारा शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, व्यापार, ललित कला, संस्कृति आदि क्षेत्रों में भव्यता से योगदान दिया जा रहा हैं। उन्होंने बताया कि “लगभग 140,000 भारतीय छात्र अमेरिका में उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।”
प्रदर्शित की गयी ‘इंडिया अवाक्स’ :-

डॉ औसफ सईद के संबोधन के बाद स्वतंत्र एटलस नेटवर्क द्वारा उत्पादित और स्वीडिश इतिहासकार जोहान नोएर्बेर्ग की आवाज से सजी एक 60 मिनट की डॉक्यूमेंटरी “इंडिया अवाक्स” की स्क्रीनिंग की गयी। भारत द्वारा उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण के उद्देश्य से 1991 में उठाए गए क़दमों औए उन क़दमों के देश की अर्थव्यवस्था पर पड़े प्रभावों को दिखाया गया।